ट्रेनों में नकली पानी बोतल बेचे जाने पर रेलवे द्वारा 800 की गिरफ्तारी


Rail Neer

रेलवे द्वारा छापामारी में 4 पेंट्री कारों के प्रबंधक सहित 800 से अधिक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया और 48,860 बोतलें बरामद की गईं।

रेलवे द्वारा एक बड़ी कार्रवाई में करीब 800 लोगों की गिरफ़्तारी हुई है। बुधवार, 10 जुलाई 2019 को देशभर में 300 से अधिक जगहों पर यह कार्रवाई हुई।

रेल मंत्री पीयूष गोयल ने जानकारी देते हुए बताया की भारतीय ट्रेनों में बेचे जा रहे पीने के नकली पानी बोतल के खिलाफ एक बड़ी कार्रवाई की गई। 4 पेंट्री कारों के मैनेजर सहित कुल 800 से अधिक व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया और 48,860 बोतलें बरामद की गईं। ये गिरफ़्तारी यात्रियों की शिकायत पर कार्रवाई की गई।

भारतीय रेल आमजन की सुविधा के बड़े पैमाने पर कदम उठा रही है। स्वच्छ गाड़ियों या स्टेशनों या फिर हो भोजन की बात, सरकार हर जगह सफाई और उपलब्धता सुनिश्चित कर रही है और साथ ही आमजन का सहयोग भी अपेछित है।

बताते चलें की रेलगाड़ी और स्टेशनों पर IRCTC द्वारा जलनीर नाम से पानी बोतल उपलब्ध कराया जाता है, लेकिन वेंडर अधिक मुनाफा कमाने के चक्कर में नकली पानी बोतल बेचते हैं।

कई बार, जाने-माने वॉटर ब्रांड्स के स्टिकर भी बोतलों पर चिपकाए जाते हैं, जो कॉपीराइट उल्लंघन के अलावा अनजाने में खरीदे जाने वाले यात्रियों के स्वास्थ्य के लिए एक जोखिम है।

राजधानी और दुरंतो जैसी प्रमुख ट्रेनों में यात्रियों को मुफ्त में रेल नीर की बोतलें प्रदान की जाती हैं, लेकिन अन्य ट्रेनों में यात्रियों को या तो बोतलें खरीदने या स्टेशनों पर पीने के पानी के नल का उपयोग करने पर निर्भर रहना पड़ता है।

यात्री इस तरह के शिकायत 138 नंबर पर या 1800 11 1321 टोल फ्री नंबर पर कर सकते हैं। अगर यात्री ट्विटर का उपयोग करते है तो इसकी शिकायत वहां भी कर सकते हैं, इसके लिए यात्री को PNR नंबर के साथ @RailMinIndia को टैग कर अपना शिकायत लिखना है।


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *