90 सालों बाद ऋषिकेश का प्रसिद्ध ‘लक्ष्मण झूला’ बंद

Public Works Department (PWD) के अधिकारीयों ने ऋषिकेश के लक्ष्मण झूला पर अध्ययन किया और सुझाव दिया कि पुल को बंद कर दिया जाए क्योंकि यह मरम्मत करने योग्य नहीं है और संभावित खतरा भी है।

90 साल का पुराना सस्पेंशन ब्रिज, लक्ष्मण झूला (Lakshman Jhula), गंगा के ऊपर ब्रिटिश राज के दौरान बनाया गया था। शुक्रवार (12.07.2019 ) को एक विशेषज्ञों ने सुझाव दिया कि ब्रिज अब किसी भी अधिक लोड को बनाए रखने की स्थिति में नहीं है।

अधिकारीयों की मानें तो पुल इतना ख़राब हो चूका है की पैदल यात्रियों के आवागमन की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। उत्तराखंड के अतिरिक्त मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने कहा की “यह सिफारिश की जाती है कि इस पुल को तत्काल प्रभाव से बंद कर दिया जाए अन्यथा कुछ बड़े हादसे हो सकते हैं।”

पहले के मुकाबले पुल पर आवाजाही में अभूतपूर्व वृद्धि हुई है और पुल की टॉवर एक तरफ झुकती हुई दिखाई दे रही हैं।

1929 में बना ये पुल ऋषिकेश के मुख्य आकर्षक जगहों में से एक है। दोपहिया वाहनों एवं पैदल यात्री द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले पैदल पुल का नाम हिंदू पौराणिक चरित्र लक्ष्मण के नाम पर रखा गया है क्योंकि यह कहा जाता है कि वह जूट की रस्सियों के सहारे नदी पार किया गया था।

पुराने समय में इस पुल का इस्तेमाल मुख्य रूप से चार धाम तीर्थयात्रियों द्वारा किया जाता था। 284 फीट लंबा यह पुल थोड़ा झूलता था, जिसके परिणाम स्वरूप इसे ‘झूला’ नाम दिया गया था।

“गंगा की सौगंध”, “सन्यासी” और लोकप्रिय जासूसी धारावाहिक “सीआईडी” जैसी कई सफल हिंदी फिल्में और धारावाहिक लक्ष्मण झूला पर शूट किए गए हैं।

1990 में अतिरिक्त पुल ‘राम झूला’ भी बनाया गया ताकि लक्ष्मण झूला पर भर काम हो सके। दूसरी तरफ पुल को डिस्मेंटल करने को लेकर अधिकारी बिच निर्णय लेना बाकि है।


सम्बंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

*

वायरल-न्यूज़

पोपुलर न्यूज़

  • Tokyo2020: ओलिंपिक हॉकी टेस्ट इवेंट 17 से शुरु, भारत मलेशिया से भिड़ेगा
  • बजाज पल्सर 125 काम दाम में स्टाइलिश बाइक जल्द होगा लांच
  • वॉयरल सच: स्कूल जाने के लिए बच्चों का प्लास्टिक बैग में नदी पर करने का
  • 90 सालों बाद ऋषिकेश का प्रसिद्ध ‘लक्ष्मण झूला’ बंद
  • मारुती सुजुकी S-Presso Mini SUV का काल्पनिक रेंडर इमेज