डॉ. सुमेधा कुशवाहा: तम्बाकू छुड़ाने वाली 30000+ लोगों की हीरो

Tobacco Cessation: डॉ. सुमेधा कुशवाहा ने 30000 से अधिक लोगों का अपने संगठन ATTAC के माध्यम से तम्बाकू और धूम्रपान से जुड़ी समस्याओं का कॉउंसलिंग कर चुकी है।

आपने बहुत सारे सिनेमा और टीवी में तम्बाकू से जुडी हुई विज्ञापनों को देखा होगा, क्या सभी इस पर विचार करते हैं।

हर वर्ष तम्बाकू से जाने वाली जानों की संख्या साठ लाख से भी अधिक है। हमारा भारत दुनिया का दूसरा सबसे ज्यादा तम्बाकू का उपयोग करने वाला देश है और साथ ही इससे सम्बंधित होने वाले रोगों से मरने वाले लोगों की संख्या भी एक में से छठा हिस्सा है।

हमारे देश में इसका प्रचलन काफी समय से है। इसकी लत केवल वयस्क ही नहीं बच्चे और बूढ़ों में भी है। अक्सर छोटे बच्चे सड़को के किनारे इनका सेवन करते देखे जा सकते हैं।

सेवन करने वाले लोगों को शुरू में इस बात का कोई पता नहीं होता की कैंसर जैसी रोग ये तम्बाकू से ही होता है और वे लगातार इसका उपयोग करते है।

गौरतलब बात ये भी है की सरकार ने सभी तम्बाकू पदार्थों पर संबधित बिमारियों के बारे में बड़े चित्रों में विज्ञापन देना अनिवार्य कर दिया है फिर भी लोग इस बात को बिलकुल ध्यान नहीं देते।

इन सभी तमाम चुनौतियों में पेशे से डेंटिस्ट और ‘Aim To Terminate Tobacco And Cancer’ (ATTAC), की फाउंडर डॉ. सुमेधा कुशवाहा नशेड़ी लोगों को तम्बाकू की लत को छुटकारा देने में सफल मदद कर रहीं हैं।

इनकी फाउंडेशन के टीम साथ तम्बाकू से कैंसर और अन्य बिमारियों को ख़त्म करने के लिए जमीनी स्तर पर काम कर रहीं हैं।

डॉ. सुमेधा ने आईटीएस डेंटल कॉलेज से पब्लिक हेल्थ डेंटिस्ट्री में अपनी डीएस और एमडीएस की डिग्री पूरी की। इसी दौरना 13 साल के मुँह के कैंसर पीड़ित लड़के से प्रेरणा मिली। यही वो समय था जब उनके जीवन में एक नया मोड़ आया और ATTAC का गठन भी किया।

डॉ. सुमेधा कुशवाहा बताती हैं की वे अब तक 30,000 से भी अधिक लोगों को तम्बाकू के आदि लोगो के जीवन में सुधार आया है। इस मुहीम में इनकी ATTAC टीम ने काफी साथ निभाया है।

Image Credit: ATTAC
Image Credit: ATTAC

अपने अनुभओं को साझा करते हुए डॉ. सुमेधा अपने साथ घटित उस घटना को याद करती है, जब 13 साल का लड़का मुँह के कैंसर से पीड़ित उनके पास आया था। तम्बाकू खाने के मुद्दे पर वो लड़का बोला कि “मुझे पता था की ये गन्दी चीज है, लेकिन ये नहीं पता था कि मेरी जान ले लेगी।”

ये घटना डॉ. सुमेधा के लिए इंस्पिरेशन और जीवन का टर्निंग पॉइंट था। उन्होंने समाजिक कार्य और सहयोग करना शुरू कर दिया। मिड अगस्त 2014 का समय था। अपने पति, दोस्तों और परिवार के सहयोग से ATTAC – Aim to Terminate Tobacco and Cancer (Society) की स्थापना की।

Image Credit: ATTAC

छोटे बच्चों के तम्बाकू सेवन पर डॉ. सुमेधा बताती है की बहुत सारे स्टाल बच्चों द्वारा चलवाया जा रहा है, जिनमे तम्बाकू जैसे नशा के पदार्थ बेचे जाते हैं। बेचने वाले इन बच्चों की उम्र 6 साल की भी है।

बच्चों के लिए ये सभी सामान्य लगती है, क्यूंकि वे अपने बड़े लोगो को फॉलो करते हैं। इसमें उनके माता-पिता भी ज्यादा नहीं रोकते है, जिससे उनके आदतें और भी बुरी होती जाती है। पैकेट पर छपे बड़े अच्छरों में चेतावनी को कोई भी नहीं जानता या देखता है।

इन सभी घटनाओं में लोगों की अनभिगता का परिणाम है। समाज को जागरूक होने की जरुरत है और साथ ही नियमों में भी सुधार की जरुरत है।

डॉ. सुमेधा द्वारा संचालित ATTAC स्कूल और कॉलेज तम्बाकू से जुडी जानकारी और बिमारियों के बारे में प्रोग्राम करते है।

Image Credit: ATTAC

अभी तक डॉ. सुमेधा ने 11,000 से भी अधिक मरीजों का ओरल और महिलाओं में ब्रैस्ट कैंसर जैसी बिमारियों का चेक कर चुकी हैं। साथ ही 30,000 से भी अधिक तम्बाकू सेवन करने वाले मरीजों का इलाज कर चुकी है या ये कहें की तम्बाकू छुड़वाने के लिए काउंसिलिंग कर चुकी हैं। इनके द्वारा की गई काउंसिलिंग में 1,400 लोगों की आदतें तो बिलकुल ख़त्म हो चुकी है।

नॉएडा के विभिन्न इलाकों में 3 तम्बाकू समाप्ति सेंटर चल रहें हैं, जिनमे आर्थिक कमजोर वर्ग के लोगो को कॉउंसलिंग कर तम्बाकू छुड़ाने में मदद की जाती है।

Image Credit: ATTAC

इस अभियान में बहुत साड़ी कठिनाइयाँ भी शामिल है। भारत में जहाँ तम्बाकू उगाये जाते हैं, उसका असर दूसरे फसलों पर भी पड़ता है। साथ ही तम्बाकू पदार्थों पर सरकारी टैक्स भी अन्य देशों के मुकाबले काफी कम है। तीसरी बड़ी समस्या ये भी है कि नॉन-प्रॉफिट आर्गेनाइजेशन के पास भी संसाधन सिमित है। मानव संसाधन और आर्थिक कमी भी एक बड़ी रुकावट है।

डॉ. सुमेधा ये भी कहती की, तम्बाकू जहाँ बहुत सारे लोगों का पेट भरता है, वही दूसरी तरफ लाखो लोग इससे रोगी भी बनते हैं। बहुत सारे ऐसे लोग आते है, जो काफी असहाय दीखते है, उनकी बीमारी के अंतिम अवस्था में मदद करना मुश्किल होता है। समय रहते अगर डॉक्टर आपको तम्बाकू या धूम्रपान छोड़ने की सलाह देता है तो उसपर अभी से ही ध्यान देने की जरुरत है।

डॉ. सुमेधा कुशवाहा या उनकी संगठन ATTAC की अधिक जानकारी उनकी वेबसाइट से प्राप्त की जा सकती है। ATTAC Link

How to Tobacco Cessation, Tobacco cessation center in India, Tobacco Cure, Smoking cure and counseling, tobacco causes cancer.


सम्बंधित खबरें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

*

*

वायरल-न्यूज़

पोपुलर न्यूज़

  • Tokyo2020: ओलिंपिक हॉकी टेस्ट इवेंट 17 से शुरु, भारत मलेशिया से भिड़ेगा
  • मारुती सुजुकी S-Presso Mini SUV का काल्पनिक रेंडर इमेज
  • 90 सालों बाद ऋषिकेश का प्रसिद्ध ‘लक्ष्मण झूला’ बंद
  • बजाज पल्सर 125 काम दाम में स्टाइलिश बाइक जल्द होगा लांच
  • वॉयरल सच: स्कूल जाने के लिए बच्चों का प्लास्टिक बैग में नदी पर करने का